Home Blog Page 164

रेल मंत्रालय का बड़ा फैसला, इस कदम के बाद यात्रियों की हो जाएगी बल्ले बल्ले !!

नमस्कार दोस्तों…फिलहाल भारत में पर्व और त्यौहारों के दिन नजदीक आ रहे है, वैसे आम नागरिकों की चिंता और बढती जा रही है, कि वह कैसे घर जाएंगे। देश की जनता में अभी से ही टिकट की बुकिंग करने की होड लगी है, कि बस उन्हें कैसे भी एक सीट मिल जाएं औऱ वे अपनी यात्रा कर सकें।

 

जिन लोगों की अभी महिने की तनख्वाह नहीं आयी है, वे भी यह सोचकर चिंतित है कि उन्हें घर जाने में काफी दिक्कतों का सामना करना पडेगा। क्योंकि पर्व-त्यौहारों में ट्रेनों में अक्सर खूब भीड देखने को मिलती है और अभी तो त्यौहारों के मौसम शुरु ही हुए है, जिसे लेकर आम नागरिकों की चिंता का होना लाजमी है।

कम होंगे किराए
आप को जानकारी के लिए बता दें कि भारतीय रेलवे, रेल यात्रियों की परेशानियों को देखकर अब बहुत ही जल्द रेल यात्रियों को एक तोहफा देने जा रही है। आखिर वह तोहफा क्या है ? तो आइए इस के बारे में हम आप को बताते है। बात यह भी है कि रेलवे बहुत ही जल्द ही 2-एसी और 3-एसी की सीटों पर किराये में कमी करने वाली है।

मेल और एक्सप्रेस ट्रेनों पर लोड बढा है
आप को बता दें कि सरकार ने कहा है कि रेलवे पहले से ही 3-एसी सीटों से लाभ कमा रही थी। साथ ही साथ प्रीमियम ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर के लागू होने से इन ट्रेनों से करीब 7 लाख रेल यात्री दूर हो गए है। फ्लेकसी फेयर के कारण रूट पर चलने वाली सभी मेल और एक्सप्रेसों ट्रेनों पर काफी अधिक लोड बढ़ा है।

विकल्प योजना के संशोधन पर पर विचार
प्राप्त जानकारी के अनुसार बता दें कि अब रेलवे बहुत ही जल्द अपनी एक अन्य विकल्प योजना को संशोधित करने पर विचार करने जा रहीं है। जो फॉर्मूला हमसफर जैसे ट्रेनों में भी इस्तेमाल होते है। बता दे कि हमसफर के सीटों की बुकिंग करते समय रेल यात्रियों से 50 प्रतिशत सीटों पर वास्तविक किराया से 15 प्रतिशत अधिक एवं इसके बाद हर 10 प्रतिशत पर मूल्यों में बदलाव हो जाता है।

रेलवे के इस संशोधन से जहां आम नागरिकों को राहत मिलेगी वहीं अब प्रत्येक रेल यात्रियों की यात्रा भी सुलभ हो पाएगी। अब देखना यह है कि इन नियमों में कितनी जल्दी संशोधन होती है।

प्रधानमंत्री मोदी के पसंदीदा है ये 4 अभिनेता … तीसरे का नाम जरुर हैरान कर देगा !

नमस्कार दोस्तों…आप तो जानते ही होंगे कि भारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की लोग भले ही आलोचनाएं करें लेकिन उन के व्यक्तित्व से कोई बच नहीं पाया है। विपक्ष के नेता और देश की जनता सभी उन का दमदार भाषण सुनते है। दुनिया के कई बडे देशों के लीडर्स भी नरेन्द्र मोदी को फॉलो करने लगे है।

आप को बता दें कि साल 2014 में नरेन्द्र मोदी पूर्ण बहुमत से बारत के प्रधानमंत्री बने थे। जिस के बाद उन्होंने अच्छे संबंध बनाने के लिए कई देशों के दौरे भी किये। साथ ही साथ उन्होंने कई तरह की नीतियां भी चलाई, जिस में कई बडे फिल्मी सितारों को उसमें शामिल किया। बता दें कि नरेन्द्र मोदी के व्यक्तित्व को बॉलीवुड के ये 4 एक्टर्स बेहद पसंद करते है। जब से मोदी पीएम बने है, तब से वे कई बार मोदी से मुलाकात भी कर चूके है।

ये 4 अभिनेता है नरेन्द्र मोदी के चहेते

बारत के वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भारतीय सिनेमा के 4 अभिनेता बेहद पसंद करते है। जिन से वे अक्सर मुलाकात करते रहते है।

(1) अक्षय कुमार

आप को जानकारी के लिए बता दें कि अक्षय कुमार ने स्वच्छता अभियान को ध्यान में रखते हुए एक फिल्म भी बनाई थी। जिस का नाम “टॉयलेट एक प्रेम कथा” था। इस फिल्म के रिलीज के पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने अक्षय से मुलाकात की और शुभकामनाएं भी दीं। साथ ही साथ मोदी जी अक्षय कुमार की देशभक्ति वाले किरदारों से प्रभावित होते हुए उनकी कई बार तारीफ भी करते नजर आए है।

(2) विजय

साउथ सिनेमा के सबसे बेहतरीन कलाकार में से एक विजय है। इन्होंने अपने करियर में एक से बढ़कर एक सुपरहिट फिल्में दे चुके हैं और कुछ ऐसी भी देशभक्ति वाली फिल्में हैं। जिनकी रिलीज के पहले वे नरेंद्र मोदी जी से मिले और देश के हित में कई बातें भी कही है।

(3) सलमान खान

बता दें कि बॉलीवुड के दबंग सलमान खान भी नरेंद्र मोदी की तारीफ करते नहीं थकते। उन्होंने पीएम से दो बार पर्सनली मुलाकातें भी की हैं। सलमान खान ने नरेंद्र मोदी के साथ पतंग भी उडाई है। मोदी भी सलमान खान को बहुत पसंद करते हैं ।

(4) प्रभास

आप को जानकारी के लिए बता दें कि फिल्म इंडस्ट्री के बाहुबली यानी कि प्रभास को भी मोदी बहुत ज्यादा पसंद करते हैं। उन्होंने प्रभास की फिल्म बाहुबली की काफी ज्यादा सराहना की थी। मोदी जी ने प्रभास के साथ अपनी तस्वीर सोशल मीडिया पर भी शेयर की थी।

गौर से देखिये इन तस्वीरों को, उपराज्यपाल की सीट पर बैठी बच्ची की तस्वीर का सच जानकर आपको भी होगा आश्चर्य

नमस्कार दोस्तों…बता दें कि देश की महिला आईपीएस और वर्तमान में पुंडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी अपने कार्यों की वजह से अक्सर सुर्खियों में बनी रहती है। लोग किरण बेदी के कार्यों की खूब सराहना करते है।

आप को बता दें कि किरण बेदी अपने सोशल मीडिया एकाउंट पर काफी एक्टिव रहती है और इसी के माध्यम के अपने फैन्स के साथ कई तस्वीरें और जानकारीयां अक्सर शेयर करती रहती है। आप को बता दें कि किरण बेदी ने कुछ बच्चों और उन के माता पिता की एक ऐसी तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की है।

जिस की लोगों में काफी प्रशंशा हो रही है। बच्चों और उनके माता पिता ने किरण बेदी के साथ वक्त बिताया। इसी बीच किरण बेदी को जब पता चला कि उनसे मिलने आये बच्चों में से एक बच्चे का जन्मदिन है, तो उन्होंने जो किया उस की आज हर जगह तारीफ हो रही है।

दरअसल सोशल मीडिया पर तस्वीरें साझा करते हुए किरण बेदी ने लिखा कि, “उपराज्यपाल की सीट पर बच्ची बैठी है। अपने माता पिता के साथ कुछ बच्चे राज निवास घुमने आये थे। जन्मदिन के मौके पर बच्ची को मिली उपराज्यपाल की सीट। प्रेरित करने के लिए एक अविस्मरणीय क्षण।”

तस्वीर में किरण बेदी बच्चों के साथ कुर्सी के पीछे खड़ी दिखाई दे रही हैं। सोशल मीडिया पर इस तस्वीर के सामने आने के बाद से ही किरण बेदी की जमकर तारीफ हो रही हैं। लोग बच्ची को मिनी किरण बेदी भी कह रहे हैं…क्योंकि उस बच्ची ने कपडे भी किरण बेदी की तरह ही पहने हुए है।

आप को जानकारी के लिए बता दें कि पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी को बच्चों से खासा लगाव है। इतने बड़े पद पर रहने के बाद भी किरण बेदी ने बच्ची को खुश करने के लिए अपनी सीट पर बैठा दिया, जिसकी तस्वीर आपने देखी। सरल,सहज और मिलनसार स्वभाव की वजह से किरण बेदी एक बार फिर चर्चा में आ गयी है।

1000 रुपए से कम के 5 बेस्ट फीचर फोन के बारे में … जिन्हें आप जरुर खरीद सकते है !

नमस्कार दोस्तों…आप तो जानते ही होंगे कि आजकल लगभग सभी के पास समार्टफोन देखने को मिलते है। बता दें कि स्मार्टफोन के जमाने में भी फीचर फोन की बात करना भले ही आपको खलेगी लेकिन आज भी कई उपभोक्ता स्मार्टफोन के साथ एक फीचर फोन रखना बेहतर मानते हैं। वहीं, कुछ ऐसे यूजर्स भी हैं, जो स्मार्टफोन की बजाय फीचर फोन यूज करना चाहते हैं।

आप को जानकारी के लिए बता दें कि इऩ फोन से कॉल और मैसेज करने के अलावा म्यूजिक और रेडियो से मनोरंजन भी किया जा सकता है। आज हम आप को इस आर्टिकल 1000 रुपये से कम के 5 बेस्ट फीचर फोन्स के बारे में बताने वाले है। तो आइए विस्तार से इस खबर को जानते है।

(1) NOKIA 105 Single SIM 2017

लोगों में नोकिया को आज भी बेहद पसंदीदा माना जाता है। इस फीचर फोन में 800 एमएएच की बैटरी, 4 एमबी रैम, 4एमबी इंटरनल स्टोरेज, सिंगल सिम और एफएम रेडियो की सुविधा है। फ्लिपकार्ट पर यह फोन 999 रुपये में उपलब्ध है।

(2) Winstar C1

आप को बता दें कि इसमें 32 एमबी रैम, 32 एमबी इंटरनल स्टोरेज, 600 एमएएच बैटरी, फ्लैश के साथ 0.3 मेगापिक्सल कैमरा, विडियो रेकॉर्डिंग और ड्यूल सिम जैसी सुविधाएं हैं। फ्लिपकार्ट पर यह फोन 899 रुपये में मिल रहा है।

(3) Micromax X072 Dual SIM

इसमें 1750 एमएएच की बैटरी, ड्यूल सिम, 1.77 इंच डिस्प्ले, म्यूजिक प्लेयर और 0.08 मेगापिक्सल कैमरे की सुविधा है। इस फोन में 256 एमबी रैम है और इंटरनल स्टोरेज को माइक्रोएसडी से 8 जीबी तक बढ़ाया जा सकता है। फ्लिपकार्ट पर यह फोन 725 रुपये में उपलब्ध है।

(4) MTR S5 MINI

इसमें 64 एमबी रैम और 64 एमबी इंटरनल स्टोरेज, 1.77 इंच डिस्प्ले और 0.3 मेगापिक्सल कैमरे की सुविधा है। फ्लिपकार्ट पर इस फोन की कीमत 649 रुपये है।

(5) LAVA CaptainN1 Lite

इस फीचर फोन में 800 एमएएच बैटरी, 1.8 इंच डिस्प्ले, 32 एमबी रैम और 32 एमबी इंटरनल स्टोरेज है। इसके अलावा एफएम रेडियो, एफएम रेडियो रेकॉर्डिंग और ब्लूटूथ की सुविधाएं हैं। फ्लिपकार्ट पर इसकी कीमत 799 रुपये है।

क्या आपको पता है ? सबसे पहले किसने और कहां से शुरू की थी कांवड़ यात्रा

नमस्कार दोस्तों…आप तो जानते ही है कि फिलहाल सावन का महिना चल रहा है और हमें हर जगह शिव भक्त देखने को मिल ही जाते है। शिव मंदिरों में भी दर्शन के लिए भक्तों की काफी भीड रहती है। श्रावण मास में कई शिव भक्त कांवड यात्रा पर भी जाते है। इस दौरान वे कांवड में गंगाजल भरकर शिव भगवान का जलाभिषेक करते है और उन्हें प्रसन्न करने की कोशिश करते है।

आपने और हमने कई बार देखा होगा कि, श्रावण मास के दौरान में ही ये कांवड यात्रा निकाली जाती है। लेकिन क्या आप जानते है कि ये कांवड यात्रा के पीछे की क्या प्रथा है। शायद आप का जवाब ना ही होगा। तो आज हम इस आर्टिकल में आप को बताएंगे कि आखिर ये कांवड यात्रा की शुरुआत किसने की थी। तो आइए विस्तार से जानते है।

कांवड यात्रा का इतिहास

भगवान परशुराम के बारे में सभी ने सुना होगा। बता दें कि वे बहुत बडे शिवभक्त थे और उन्होंने ही सबसे पहले कांवड यात्रा की शुरुआत की थी। न्होंने ‘गढ़मुक्तेश्वर’ से गंगाजल भरकर ‘पुरा महादेव’ तक गए थे और भगवान शिव का जलाभिषेक किया था। जब भगवान परशुराम ने पहली बार भोलेनाथ का जलाभिषेक किया था। उस वक्त सावन का महीना चल रहा था। इसी तरह से शिव भक्त हर सावन के महिने कांवड यात्रा निकालते है।

कितने प्रकार की होती है कांवड यात्रा

समय के साथ बदलाव आता रहता है। तो आइए तरह-तरह की कांवड यात्रा के बारे में जानते है।

(1) खडी कांवड


सबसे ज्यादा कठिन कांवड यात्रा ‘खडी कांवड’ है। इस कांवड़ यात्रा में लोग अपने कंधे पर कांवड़ लेकर चलते हैं और इस दौरान वो कांवड़ को किसी भी जगह रख नहीं सकते और ना ही कहीं टांग सकते हैं।

(2) झांकी वाली कांवड


इस कांवड़ यात्रा में कांवड़ियां किसी ट्रक, जीप या खुली गाड़ी में शिव की मूर्ति लगाकर और साथ में गाने-बाजे के साथ झूमते हुए जाते हैं।

(3) डाक कांवड

कांवड़ यात्रा के दौरान भक्त झूमते हुए जाते हैं लेकिन, जब मंदिर से दूरी 36 घंटे या फिर 24 घंटे की रह जाती है, तो कांवड़ियां गंगाजल लेकर दौड़ते हुए जाते हैं।