शिवपाल का चुनाव चिन्ह देख अखिलेश की बढ़ी चिंता, धीमी पड़ सकती है साइकिल की रफ़्तार !!

948

नमस्कार दोस्तों..आप को बता दें कि अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल सिंह यादव ने समाजवादी पार्टी के द्रारा नजर अंदाज होने पर अपनी खुद नई पार्टी बनाई है। वह ऐसे में हर मोर्चे पर अखिलेश यादव को हर तरफ से चित कर देना चाहते है।

 

लेकिन हाल फिलहाल अब तक शिवपाल यादव अखिलेश यादव की रणनीतियों से आगे नहीं बढ पाए है, क्योंकि मुलायम सिंह के रुप में शिवपाल को एक बहुत ही बडा और गहरा ढटका लग चूका है।

आशा है कि, शिवपाल सिंह यादव के समाजवादी सेकुलर मोर्चा को चुनाव में अभी तक आयोग की तरफ से राजनीति पार्टी का नाम और चुनाव चिन्ह भी नहीं मिला है। ऐसे में आशा है कि, रविवार को चुनाव समिति शिवपाल के समाजवादी सेकुलर मोर्चा को पार्टी का नाम और चुनाव चिन्ह दे सकती है।

इसी मुद्दे को लेकर एक बार फिर से उत्तर प्रदेश की राजनीतिक गलियारों में मुश्किलों का दौर तेज हो गया है। शिवपाल यादव अपनी पार्टी का नाम समाजवादी पार्टी की तरह देखना चाहते है। ऐसे में आशा है कि उनकी पार्टी का नाम प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया रखा जा सकता है।

इस के बाद उन्होंने जनता दल के पुराने चुनाव चिन्ह चक्र की मांग की है। उस से पुराने समाजवादियों को एक बार फिर से अपनी और लाया जा सकें। इस से अखिलेश यादव की मुश्किलें और भी बढ सकती है।

जानकारों का कहना है, कि चक्र का चुनाव चिन्ह शिवपाल की पार्टी को नहीं दिया जाएगा। ऐसे में शिवपाल ने अन्य चिन्ह के रूप में मोटरसाइकिल को चुना है, जो कि समाजवादी पार्टी के चुनाव चिन्ह साइकिल को बहुत बड़ा जवाब दे सकता है। ऐसे में शिवपाल यूपी के उन सभी सपा लोगों को समझाने में कामयाब हो जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here